Rajasthan: Human Rights Commission issued guidelines for prevention of corona virus

चौपानकी औद्योगिक क्षेत्र में 5 एम.एल.डी. का सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जाना प्रस्तावित- पर्यावरण राज्य मंत्री

Last Updated on by Sntv24samachar

5 MLD in Chaupanki Industrial Area. Proposed to set up sewage treatment plant – Minister of State for Environment

जयपुर, 4 मार्च। पर्यावरण राज्य मंत्री श्री सुखराम विश्नोई ने बुधवार को विधान सभा में कहा कि तिजारा विधानसभा क्षेत्र स्थित चौपानकी औद्योगिक क्षेत्र में सीवेज के पानी की समस्या के निराकरण के लिए 5 एम.एल.डी. क्षमता का एस.टी.पी. लगाया जाना प्रस्तावित है। उन्होंने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र टपूकड़ा, कहरानी, खुशखेड़ा तथा चौपानकी में औद्योगिक क्षेत्रों से निकले रसायन युक्त गंदे पानी के उपचार के लिए 9 एम.एल.डी. की क्षमता का सी.ई.टी.पी. लगा हुआ है।
श्री विश्नोई ने प्रश्नकाल के दौरान विधायकों की ओर से इस संबंध में पूछे गये पूरक प्रश्नों का जवाब देते हुए बताया कि चौपानकी में सीवरेज के पानी के इकट्ठा होने की समस्या है। इसके समाधान के लिए सीवेेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जाना प्रस्तावित है।

उन्होंने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र टपूकड़ा, कहरानी, खुशखेड़ा तथा चौपानकी में औद्योगिक क्षेत्रों से निकले रसायन युक्त गंदे पानी के उपचार के लिए जो सी.ई.टी.पी. बना हुआ है, उसके 904 सदस्य हैं। अपरिशोधित जल के उपचार के पश्चात इसे पार्कों, उद्योगों, सड़कों पर धूल उड़ने से रोकने के लिए पानी का छिड़काव करने आदि के काम में लिया जाता है। 


इससे पहले विधायक श्री संदीप कुमार के मूल प्रश्न के लिखित जवाब में पर्यावरण राज्य मंत्री ने बताया कि विधानसभा क्षेत्र तिजारा में स्थित विभिन्न औद्योगिक इकाइयों (चौपानकी, कहरानी, पथरेडी) द्वारा यदा कदा छोड़ा गया औद्योगिक उच्छिष्ठ, घरेलू जल मल एवं बरसाती पानी का भराव ग्राम साहडोद में कुछ भूमि में कृषि एवं रिहायशी क्षेत्र में है। 
उन्होंने बताया कि ग्राम थडा व खुशखेड़ा में रिहायशी व कृषि भूमि में अपरिशोधित जल का भराव नहीं है। उक्त तीनों औद्योगिक क्षेत्रों में औद्योगिक उच्छिष्ठ के शून्य निस्त्राव र्(स्क्) की शतोर्ं की पालना करायी जाती है। उन्होंने बताया कि रीको से प्राप्त सूचना के अनुसार बरसात के समय पानी की अत्यधिकता एवं प्राकृतिक ढलान के कारण औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाले जल के खेताें में या बरसाती नालों में एकत्रित होने की संभावना बनी रहती है।

Leave a Comment