Doctors understand their responsibilities and give their full responsibilities during the corona period: Dr. Garg

चिकित्सक अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए कोरोना काल में अपने दायित्वों को दें पूर्ण अंजाम: डाॅ. गर्ग

Last Updated on by Sntv24samachar

  • चिकित्सक अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए कोरोना काल में अपने दायित्वों को दें पूर्ण अंजाम: डाॅ. गर्ग
  •  कोरोना जागरूकता अभियान को सफल बनाने के दिये निर्देश
Doctors understand their responsibilities and give their full responsibilities during the corona period: Dr. Garg
चिकित्सक अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए कोरोना काल में अपने दायित्वों को दें पूर्ण अंजाम: डाॅ. गर्ग

भरतपुर 20 जून। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डाॅ. सुभाष गर्ग ने चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे कोरोना संक्रमण की इस महामारी के काल में अपनी महत्वता को समझते हुए इसकी रोकथाम एवं बचाव के लिए और अधिक सक्रिय होकर प्रयास करें जिससे राज्य में भरतपुर की छवि में सुधार किया जा सके।

डाॅ. गर्ग ने शनिवार को राजकीय मेडीकल काॅलेज में आयोजित प्रशासनिक, पुलिस एवं चिकित्सा अधिकारियों की संयुक्त समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि जिन क्षेत्रों में कोरोना के पाॅजिटिव रोगी मिले हैं उनमें लगाये गये कफ्र्यू की सख्ती से पालना करायें तथा कोरोना संक्रमित रोगियों के उपचार के लिए आरबीएम एवं कोरोना केयर सेन्टर में  चिकित्सा अधिकारियों एवं दवाओं की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करने के साथ ही उनके मनोरंजन एवं खेलकूद की व्यवस्था भी करें जिससे उनको इन संस्थाओं में बंदिश महसूस न हो और उनकी रिकवरी रेट में इजाफा हो सके। उन्होंने जिला कलक्टर को निर्देश दिये कि वे राजीव गांधी सेवा केन्द्रों एवं ग्राम पंचायत कार्यालयों पर सचिव, पटवारी, विद्युत एवं पेयजल विभाग के एईएन, जेईएन सहित अन्य आकस्मिक सेवाओं के दूरभाष नम्बर अंकित करायें तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिये कि वे जिले की समस्त पीएचसी, सीएचसी एवं उपस्वास्थ्य केन्द्रों पर लगे चिकित्सकों के नाम एवं मोबाईल नम्बरों का दीवार लेखन करायें। उन्होंने बीसीएमओ सेवर को निर्देश दिये कि वे पीएचसी सेवर की चारदीवारी निर्माण के लिए विधायक कोटे से राशि स्वीकृत करने के सम्बंध में प्रस्ताव तैयार कर भिजवायें।

डाॅ. गर्ग ने आरबीएम चिकित्सालय में तीन नई डायलेसिस मशीन विधायक कोटे से क्रय करने के निर्देश दिये जिनमें से एक डायलेसिस मशीन कोरोना पाॅजिटिव एक मशीन हैपेटाइटिस सी एवं बी रोगियों के उपचार के लिए आरक्षित रखी जायें इस सम्बंध में कोई कोताही नहीं बरतें साथ ही उन्होंने राज्य सरकार से स्वीकृत 2.25 करोड़ एवं डीएमएफटी से स्वीकृत राशि के शीघ्र उपयोग करने के सम्बंध में क्रय की जाने वाले प्रस्तावों को गति देने के निर्देश दिये। उन्होंने जिला कलक्टर एवं नगर निगम आयुक्त को निर्देश दिये कि वे एक-एक मोक्ष वाहन का क्रय कर लावारिस एवं संक्रमित व्यक्तियों के शवों को पहुंचाने के कार्य में उपयोग लें। उन्होंने कनोैडिया काॅलेज, जयपुर द्वारा 11 लाख रूपये की स्वीकृत सहायता राशि का उपयोग आरओ प्लांट एवं डायलेसिस वार्डों के सुदृढीकरण में उपयोग करने के निर्देश दिये।

बैठक में चम्बल परियोजना की प्रगति का जायजा लेने के बाद निर्देश दिये कि योजना के कार्यों में गति लायें एवं कार्य में लापरवाह कम्पनी को नोटिस देकर ब्लैक लिस्ट करने की कार्यवाही करें। उन्होंने भरतपुर विधान सभा क्षेत्र के गांवों में जले हुये ट्रान्सफार्मरों को शीघ्र बदलने के निर्देश देते हुये कहा कि सिंगल फेस की विद्युत सप्लाई नियमित जारी करें। उन्होंने पेयजल योजनाओं के लिए अलग से विद्युत लाईन डलवाने के भी निर्देश दिये। उन्होंने 21 जून शुरू होने वाले विशेष जागरूकता अभियान के तहत ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में घर-घर जाकर लोगों को जागरूक कर अभियान को सफल बनाने को कहा।
इस बैठक में जिला कलक्टर नथमल डिडेल, अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर डाॅ. राजेश गोयल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डाॅ. मूलसिंह राणा, राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय के प्राचार्य ब्रिगेडियर केके शर्मा, उपखण्ड अधिकारी भरतपुर संजय गोयल, विकास अधिकारी सेवर देवेन्द्र सिंह, डाॅ. अश्विनी कुमार, डाॅ. जिज्ञासा, डाॅ. शालिनी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. कप्तान सिंह, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डाॅ. नवदीप सैनी सहित जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी, विद्युत वितरण निगम सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।  

चिकित्सा राज्य मंत्री ने बैठक के बाद महिला पाॅलिटैनिक काॅलेज में बनाये गये कोविड केयर सेन्टर का अवलोकन किया और निर्देश दिये कि सेन्टर में भर्ती सभी कोरोना पाॅजिटिव रोगियों की समुचित उपचार की व्यवस्था करें। अवलोकन में उनके साथ जिला कलक्टर नथमल डिडेल एवं प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डाॅ. नवदीप सैनी सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद थे।

चिकित्सा राज्य मंत्री ने धौरमुई के लिए स्वीकृत पीएचसी के लिए भूमि का अवलोकन करते हुए आवंटन के सम्बंध में अधिकारियों से चर्चा की। इसके पश्चात वे जाटौली रथभान एवं खैमरा ग्राम पंचायत क्षेत्रों के गांवों का दौरा कर लोगों से कोरोना संक्रमण के बचाव के उपाय करने का आग्रह किया और कहा कि इस महामारी का बचाव ही इलाज है जब तक कोई वैक्सीन अथवा दवाई इजाद नहीं होती है तब तक हमें इस बीमारी के बचाव के उपायों को सुनिश्चित करना होगा। दौरे में उनके साथ भरतपुर के उपखण्डाधिकारी संजय गोयल, विकास अधिकारी देवेन्द्र सिंह भी थे